Skip to content
रखें अपनी साड़ीयों को सालों तक नए जैसा!
कपड़ों की देखभाल

रखें अपनी साड़ीयों को सालों तक नए जैसा!

अब अपनी साड़ियों को रखें नए जैसा लम्बे समय तक। यह आसान और असरदार टिप्स को पढ़ें अपनी साड़ियों को पुराना न होने दें।

आप एक अच्छी साड़ी खरीदने के लिए अपना इतना वक़्त और पैसा लगाते हैं। फिर एक दो बार उस साड़ी को पहन कर उसे अपनी अलमारी में रख देते हैं। लेकिन अगली बार, जब आप उस साड़ी को पहनने के लिए निकालते हैं, तो आप ये देख के निराश हो जाते हैं, कि आपकी वो पसंदीदा साड़ी, अब पहनने लायक ही नहीं! पर दिल छोटा न करें! आज हम आपको बताएँगे कि किस तरह, सालों तक अपनी साड़ियों में नए जैसी चमक बनाए रख सकते हैं।

१) रखने के लिए

साड़ियों को रखने के लिए कॉटन के साड़ी बैग्स का प्रयोग करें या उन्हें कॉटन के एक साफ़ कपड़े में लपेट कर रखें। साड़ियों को पॉलीथिन बैग में न रखें क्यूँकि उनमें साड़ियों तक हवा पहुँचना भी मुश्किल हो जाएगा। एक साथ सिर्फ २ से ३ साड़ियाँ ही रखें।

२) हवा के लिए

साड़ियों में नियमित रूप से हवा लगना भी ज़रूरी है, ऐसा न होने से, थोड़े समय बाद साड़ी में से बदबू आने लग सकती है। इससे बचने के लिए हर १-२ महीने के बाद, साड़ी को निकालकर उसे थोड़ी हवा लगने दें। लेकिन ध्यान रहे, साड़ी ज़्यादा देर धूप में न पड़ी रहें।

३) एम्ब्रॉइडरी के लिए

वर्क या एम्ब्रॉइडरी वाली मेहेंगी साड़ियों को सहेज के रखने के लिए उनके अंदर की तरफ एक लाइनिंग लगवा लें, जिससे उसकी सिलाई और धागे सुरक्षित रहें। इसके अलावा यह बात भी ध्यान में रखें कि, इन साड़ियों को इस तरह तह करें की इनके वर्क वाली सतह अंदर हो।

४) हैंगर का प्रयोग

सिल्क की साड़ियों को टाँग के रखना ही बेहतर है। लेकिन साड़ियों के लिए प्लास्टिक के हैंगर्स ही लें। मेटल के हैंगर से साड़ी पर हमेशा के लिए, ज़ंग के दाग लग सकते हैं।

५) कीड़ों के लिए

साड़ियों के सिल्वरफिश और मॉथ्स को दूर रखने के लिए फिनाइल की गोलियाँ इस्तेमाल की जा सकती हैं, लेकिन ध्यान रहे की वे साड़ी के कपड़े से दूर हों, वरना इससे साड़ी का रंग या उसकी ज़री ख़राब हो सकती है। विकल्प के तौर पर आप कपूर की गोलियाँ या नीम की पत्तियाँ भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

हो सकता है, इनमें से कुछ बातें आप पहले से ही जानते हों, लेकिन एक बात तो सच है, कि अगर आप इनका ध्यान रखें तो आपकी साड़ियाँ सालों तक नई जैसी बरकरार रहेंगी!

टॉप टिप

हर २ से ३ महीनो के बाद, साड़ियों को छाव में कुछ देर के लिए रख दे।