क्या आप हैं फ़िल्टर की रग-रग से वाकिफ़? ये जानना है मुनासिब!

क्या आपको विभिन्न तरह के फ़िल्टर का ज्ञान है, या आप इससे अनजान हैं? आपके सारे सवाल का जवाब पेश है यहां।

अपडेट किया गया

Best Active Water Filtration Systems You Can Use at Home

पीने के पानी में पाए जाने वाले बैक्टीरिया और दूसरी तरह की गंदगी को हम नजरअंदाज नहीं कर सकते। इससे बचने के लिए सबसे अच्छा तरीक़ा है वॉटर प्यूरीफ़ायर का इस्तेमाल। अगर आप एक्टिव वॉटर फ़िल्ट्रेशन सिस्टम के बारे में ज़्यादा नहीं जानते तो आइए इसकी बुनियादी जानकारी हम आपको बताते हैं।

१) फ़ायबर फिल्टर

फ़ायबर फ़िल्टर सेल्यूलोज, रेयान जैसे दूसरी चीज़ों को मिलाकर तैयार किया जाता है। पानी इन फ़ायबर फ़िल्टर से होकर गुजरता है, जो फ़िल्टर पर कसकर बंधे होते हैं। पानी को अच्छी तरह शुद्ध करने के लिए १ माइक्रोन रेटिंग से कम वाले फ़ायबर फ़िल्टर का चुनाव करें। फ़ायबर फ़िल्टर पानी के अंदर की गंदगी, बदबू और पानी के स्वाद ख़राब करने वाले कण भी साफ़ करता है। पर फ़ायबर फ़िल्टर पानी में घुली क्लोरीन, लेड और मरक्यूरी जैसे सख़्त चीजों को साफ़ नहीं करता।

२) सॉलिड ब्लॉक एक्टिव फ़िल्टर /चारकोल फिल्टर

चारकोल फ़िल्टर में कार्बन होता है। इसलिए यह फ़िल्टर पानी से सारे दूषित पदार्थों को ख़त्म करता है। इतना ही नहीं, सालिड ब्लॉक एक्टिव फ़िल्टर/चारकोल फिल्टर की मदद से पानी साफ़ होता है। साथ ही यह फ़िल्टर दूसरे फ़िल्टर के मुकाबले ज़्यादा काम करते हैं। पर यह फ़िल्टर पानी में घुले सॉल्ट जैसे नाइट्रेट और फ्लोराइड को साफ़ नहीं करता।

३) डिस्टलेशन

डिस्टलेशन ऐसी पानी शुद्ध करने की प्रक्रिया है, जो पानी को उबालकर भाप में बदल देता है और फिर भाप को फिरसे पानी में बदल देता है। यह फ़िल्टर पानी को बेहद ही अच्छी तरह से साफ़ करता है। साथ ही यह फ़िल्टर पानी के स्वाद बनाएं रखने में मदद करता है। पर यह फ़िल्टर पानी को शुद्ध करने के लिए बेहद समय लेता है।

४) अल्ट्रावॉयलेट (यूवी)

यूवी प्यूरीफ़ायर में यूवी किरण पानी से सारे किटाणु को नष्ट करती है। साथ ही यूवी किरण पानी से बैक्टीरिया को नष्ट करता है और उन्हें बढ़ने से भी रोकती है। यूवी प्यूरीफ़ायर कई प्रकार के बैक्टीरिया, वायरस और सूक्ष्मजीव को ख़त्म कर पानी को साफ़ करता है। पर यूवी प्यूरीफ़ायर पानी से लेड, ऐस्बेटस और क्लोरीन जैसी गंदगी को साफ़ नहीं कर सकता।

तो अब सारी बातें आप जान ही गए होंगे, क्यों सही कहा ना हम ने!

मूल रूप से प्रकाशित