आरओ प्यूरीफिकेशन के बारे में क्या आपको है जानकारी? यहां जानें बातें सारी!

यूं तो वॉटर प्यूरीफायर के ज़रिए पानी को शुद्ध करने के कई तरीक़े हैं, लेकिन रिवर्स ओस्मोसिस यानी आरओ प्यूरीफिकेशन सबसे बेस्ट है। आख़िर क्यों? आइए, जानते हैं।

अपडेट किया गया

Ever wondered how the RO purification process in a water purifier works? Here’s all you need to know.

अक्सर हम सुनते हैं और जानते भी हैं कि आरओ के ज़रिए पानी को शुद्ध किया जाता है, मगर कैसे? ये जानने की जिज्ञासा हर किसी के मन में होती है तो आइए जानते हैं कि आरओ प्यूरीफिकेशन आख़िर किस तरह काम करता है।

आरओ वॉटर प्यूरीफायर न सिर्फ़ घर बल्कि ऑफ़िस, अस्पताल, शॉपिंग सेंटर जैसी जगहों पर भी लगवाया जा सकता है।

आरओ प्यूरीफिकेशन ऐसे काम करता है:

  • आरओ सिस्टम में वॉटर फिल्ट्रेशन मेकैनिज़्म होता है, जिससे पानी होकर गुज़रता है।
  • फिल्ट्रेशन सिस्टम के मेंब्रेन से जब पानी गुज़रता है तब पानी में घुली अशुद्धियों को जो कि नंगी आंखों से दिखाई नहीं देती उन्हें दूर करता है।
  • मेंब्रेन्स पानी की अन्य अशुद्धियों को भी इसी तरह असरदार तरीक़े से निकालता है।
  • यह मेंब्रेन रसायनों और कीटनाशक, वायरस, सूक्ष्मजीवों, आयन्स, बैक्टीरिया और अन्य प्रदूषकों को भी रोकता है।
  • असल में यह उन रसायनों को भी दूर करती है जो पहले से पानी में घुले होते हैं, जिसे अन्य प्यूरिफिकेशन टेक्नोलॉजियां हटाने में असक्षम हैं।

इस तरह आरओ प्यूरीफिकेशन स्टेप बाय स्टेप अपनी प्रक्रिया द्वारा पानी को शुद्ध करती है।

मूल रूप से प्रकाशित