क्या आपको नगरपालिका से आने वाले पानी पर भरोसा नहीं है? कोई बात नहीं! हम यहाँ आपको पानी को संक्रमण-मुक्त बनाने और उसे कीटाणु-रहित बनाने के कुछ उपाय बता रहे हैं

विभिन्न स्रोतों से आने वाले पानी में बड़ी मात्रा में रोगाणु और बीमारी पैदा करने वाले कीटाणु होते हैं! यह संभव है कि नगरपालिका के पानी का शुद्धिकरण पूरी तरह से असरदार नहीं हो और उसमें रोगाणु रह जाएँ!

पीने के पानी को संक्रमण-मुक्त करने से उसमें मौजूद रोगाणु मर जाते हैं या निकल जाते हैं और इससे स्वास्थ्य को होने वाला खतरा कम हो जाता है! आप पानी में कैमिकल मिलाकर, उसे गर्म करके, उसके लिए अल्ट्रावॉयलेट (यूवी) विकिरण का उपयोग करे, छानकर या इन सभी विधियों का उपयोग संयुक्त रूप से करके पानी को संक्रमण-मुक्त बना सकते हैं|

अज्ञात स्रोतों से आने वाले पानी को ना पीये|

1) पानी को उबालना

100 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर पानी को उबालने से बीमारी पैदा करने वाले रोगाणुओं और कीटाणुओं को मारने में मदद मिलती है|

2) क्लोरीनाइज़ेशन

20 लीटर पानी में एक चम्मच घरेलू क्लोरीन ब्लीच डालें| इसे 15 मिनट तक रखें और फिर उपयोग करें|

3) आयोडीन उपचार

गर्म पानी में मिलाने पर आयोडीन सर्वाधिक कारगर होता है! एक लीटर पानी में 6 बूँद डालें और इसे 30 मिनट तक रखे रहने दें! अगर पानी ठंडा हो तो इसे 2 घंटे तक रखे रहने दें|

4) सोलर डिस्टिलेशन

यह पानी को संक्रमण-मुक्त बनाने की एक धीमी, लेकिन असरदार पद्धति है! पानी को काँच की बोतलों में भरें और उन्हें सीधे, बिना रुकावट वाली धूप में रख दें! इसे पूरा दिन रहने दें!

5) वाटर प्योरीफ़ायर का उपयोग

वाटर प्योरीफ़ायर को लगवाना पानी को संक्रमण-मुक्त बनाने का सबसे आसान उपाय है| इसकी अनेक तकनीकें हैं, जैसे आरओ, यूवी आदि, जिससे पानी के कीटाणु समाप्त हो जाते हैं और पानी पीने योग्य बन जाता है|