80% से अधिक बीमारियाँ पानी से जन्म लेती हैं| पानी से अनेक प्रकार की बीमारियाँ होती हैं, जैसे दस्त, हैज़ा, पोलियो और मेनिंजाइटिस| तो नीचे दी गई सूची में देखिए पानी से होने वाली बीमारियाँ, उनके कारण और उनकी रोकथाम के उपाय|

  • हैज़ा

विब्रियो कोलेरो नामक एक बैक्टेरिया से हैजा नामक एक अत्यंत संक्रामक बीमारी होती है| यह बीमारी संदूषित विषैले पानी और साथ ही समुद्री भोजन का सेवन करने से फैलती है| रोकथाम के उपाय : 20 लीटर पानी को स्वच्छ बनाने के लिए उसमें 1 चम्मच ब्लीच मिलाएँ! पानी को 60 मिनट के बाद ही पिने के लिए उपयोग करें|

  • टायफ़ाइड

यह बुखार आम तौर पर उन जगहों पर ज़्यादा होता है, जहाँ स्वच्छता पर्याप्त नहीं होती है| रोकथाम के उपाय : उपयुक्त साफ़-सफ़ाई और स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें| खाने से पहले और शौच के बाद हाथों को अवश्य धोएँ| फलों और सब्ज़ियों को उपयोग से पहले धोएँ|

  • पेचिश

पेचिश का सबसे आम कारण है उन कच्चे फलों और सब्ज़ियों का सेवन करना, जिनकी सिंचाई संदूषित पानी से हुई हो|रोकथाम के उपाय : पूर्ण स्वच्छता का पालन करें! पानी का क्लोरीनाइज़ेशन या आयोडीन उपचार बहुत आवश्यक है|

  • आंत्रशोध (यात्रियों का रोग)

यह बीमारी संक्रमित भोजन और पानी को खाने से फैलती है और साथ ही यह संक्रमित सतहों के संपर्क से भी होती है| इसके लक्षण हैं पेटदर्द, मतली, दस्त आदि|रोकथाम के उपाय : उबला हुआ या रिवर्स ओस्मोसिस से शुद्ध पानी या पानी का डिस्टिलेशन!

इनमें से किसी भी बीमारी से बचने के लिए उपयुक्त रोकथामकारी उपाय करें|